XETO OFFICIAL

LEADING NEWS & MEDIA WEBSITE OF INDIA NATIONAL.

सुखी डाली एकांकी का सारांश लिखिए।

1 min read

श्री उपेन्द्रनाथ अश्क द्वारा लिखित एकांकी ‘सूखी डाली’ एक पारिवारिक सामाजिक एकांकी है। इसमें पारिवारिक जीवन में स्वाभाविक रूप से उभरते हुए द्वन्द्वों का प्रभावशाली चित्रण किया गया है। इस एकांकी में वट वृक्ष का चित्रण प्रतीकात्मक है। उसे अभिभावक के रूप में चित्रित किया गया है। इसके द्वारा एकांकीकार ने यह सिद्ध करने का प्रयास किया है कि संयुक्त परिवार में अभिभावक की भूमिका सुखद, आनंददायक और प्रगति विधायक एक ऐसे वट वृक्ष की तरह होती है। जिसकी छाया स्थाई रूप से शीतल, शांतिमयी और मनमोहक होती है।

दादाजी की क्या आकांक्षा यी ?